LYRIC

Issaqbaazi-Lyrics

Issaqbaazi Lyrics

Prem na upje khet mein
Bhaiya prem bikey na haat re
Par jab jab yeh ho jaaye
Lag jaati hai vaat re, vaat re
Khadi ho jayegi khaat re..

Madua pee ke prem ka hum
Hain tanik bauraye se
Re woh mashooka, yaar hum hain
Beech na koyi aaye re

Ho uske naina neat daru
Se ghazab chadh jaayein re
Ho tab se hamri woh jab se
Jag mein aashiq aaye re

Kasam se, dharam se
Kasam se jiyara chakna choor hai
Issaqbaazi se
Kasam se jiyara chakna choor hai
Ishqbaazi se
Kasam se jiyara chakna choor hai
Issaqbaazi se

Ho tum ka jaano preet ki chidiya
Kaun gagan mein udti hai
Ho preet hamari parchhayi hai
Jahan mudein hum mudti hai

Ho lag jaibe hai tej katari
Badi zor se seene mein
Haaye dard bada ho tabahi aave hai
Bada maza jeene mein

Ho uska hamra mel anokha
Uska hamra mel anokha
Woh lehar hum paani hain
Tum ho paani hum kinara
Lehar hum tak aani hai

Kasam se, dharam se
Kasam se jiyara chakna choor hai
Issaqbaazi se
Kasam se jiyara chakna choor hai
Ishqbaazi se
Kasam se jiyara chakna choor hai
Issaqbaazi se

Ho..ho..
Hum us-se prem ghazab karte
Woh humse prem ghazab karti
Woh humre liye zaroori hai
Woh humre bina adhoori hai

Hum tose usko ladwayenge
Itna hum bhadkayenge
Tu chamcha ho ja uska chaahe uska
Maanegi na baat

Ho ek batte do aashiq
Tohri kaise hogi chhori re
Apne kad se ooncha na tu
Sapnon ka charkha kaat

Karat hai kyun baatein umar se badi
Tu desi deewana woh English pari
Re Sahiba padhaku thi Mirza tha tayin
Tabhi to woh English hai desi hoon main
Hai jiya le gayi hai re tohri yeh baat
Aa karle tu yaari mila humse hath
Aa karle tu yaari mila humse hath
Dhin-tak dhin-tak dhin-tak dha

इश्कबाज़ी Hindi Lyrics

प्रेम ना उपजे खेत में
भैया प्रेम बीके ना हाट रे
पर जब जब ये हो जाए
लग जाती है वाट रे
वाट रे..
खड़ी हो जाएगी खाट रे..

मदूआ पिके प्रेम का हम
है तनीक बौराए से
रे वो माशूका, यार हम हैं
बीच ना कोई आये रे
हो उसके नैना निट दारु
से गज़ब चढ़ जाएँ रे

हो तब से हमरी है वो जब से
जग में आशिक आये रे
कसम से.. धरम से..
कसम से जियरा चकनाचूर है
इश्कबाज़ी से
कसम से जियरा चकनाचूर है
इश्कबाज़ी से
कसम से जियरा चकनाचूर है
इश्कबाज़ी से

हो.. तुम का जानो प्रीत की चिड़िया
कौन गगन में उडती है

हो.. प्रीत हमरी परछाई है
जहां मुड़े हम मुड़ती है

हो लग जइबे हैं तेज कटारी
बड़ी जोर से सीने में

हाय दर्द बड़ा हो तभी तो आवें
बड़ा मज़ा जीने में

हो उसका हमरा मेल अनोखा..
उसका हमरा मेल अनोखा
वो लहर हम पानी हैं

तुम हो पानी हम किनारा
लहर हम तक आनी है
कसम से.. धरम से..
कसम से जियरा चकनाचूर है
इश्कबाज़ी से
कसम से जियरा चकनाचूर है
इश्कबाज़ी से
कसम से जियरा चकनाचूर है
इश्कबाज़ी से

हो हो..
हम उस से प्रेम गज़ब करते
वो हमसे प्रेम गज़ब करती
वो हमरे लिए ज़रूरी है
वो हमरे बिना अधूरी है

हम तोसे उसको लड़वाएंगे
इतना हम भड़कायेंगे
तू चमचा होजा चाहे उसका
जो है मानेगी ना बात

हो एक बट्टे दो आशिक
तोहरी कैसे होगी छोरी रे
अपने कद से ऊँचा ना तू
सपनो जा चरखा काट

करत है क्यूँ बातें उम्र से बड़ी
तू देसी दीवाना वो इंग्लिश परी

रे साहिबा पढ़ाकू थी
मिर्ज़ा था तैयं
तब भी तो वो इंग्लिश है
देसी हूँ मैं

है जिया ले गयी है रे तोहरी ये बात
आ करले तू यारी मिला हमसे हाथ

आ करले तू यारी.. मिला हमसे हाथ..
धिन ताक धिन ताक धिन ताक धा..


Song Credits:

Song Title: Issaqbaazi
Singers: Sukhwinder Singh & Divya Kumar
Lyrics: Irshad Kamil
Music: Ajay-Atul
Music Label: T-Series

“Issaqbaazi” Lyrics from movie “Zero”. This song is sung by Sukhwinder Singh & Divya Kumar. Starring Shah Rukh Khan & Salman Khan.  Lyrics penned by Irshad Kamil and music is composed by Ajay-Atul.

Added by

Abhi

SHARE

Your email address will not be published. Required fields are marked *